eRupi Kya Hai : भारत सरकार और RBI ने हाल ही में भारत के Payment System में एक नया मॉडल पेश किया है जिसे e RUPI के नाम से जाना जाता है। यह एक postpaid e-Voucher है, जिसे कोई भी भारतीय नागरिक अपने मोबाइल से इस्तेमाल कर सकता है और इसका इस्तेमाल करके किसी भी तरह का भुगतान कर सकता है। इस पोस्ट में हम जानेंगे कि e Rupi Kya Hai और कैसे काम करता है।

e Rupi क्या है

e-Rupi एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग आधारित ई-वाउचर है, जिसका इस्तेमाल मोबाइल द्वारा भुगतान करने में किया जाता है। e-Rupi एक कैशलेस और कांटैक्ट लेस व्यक्ति और उद्देश्य-विशिष्ट डिजिटल भुगतान समाधान है जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अगस्त 2021 लॉन्च किया था।

e-Rupi kya hai

e-Rupi को कई सरकारी विभागों के सहयोग से भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) द्वारा विकसित किया गया है। इस एकमुश्त भुगतान तंत्र का उद्देश्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं में होने वाले नुकसान को रोकना है और यह सुनिश्चित करना है कि लाभ सही लाभार्थी तक पहुंचे। चूंकि पैसा मोबाइल फोन के माध्यम से स्थानांतरित किया जाता है, इसलिए इसके दुरुपयोग की कोई संभावना नहीं है। प्रीपेड होने के कारण इसे सुरक्षित माना जाता है।

डिजिटल भुगतान समाधान पर आधारित नए इलेक्ट्रॉनिक वाउचर के कुछ लाभों के बारे में पीएम मोदी ने ट्वीट किया था। निजी क्षेत्र कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी कार्यक्रमों के लिए इस नई प्रणाली का भी लाभ उठा सकते हैं। प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने यह भी कहा कि कल्याणकारी सेवाओं की लीक-प्रूफ डिलीवरी सुनिश्चित करने की दिशा में यह एक क्रांतिकारी पहल हो सकती है।

e-Rupi का उपयोग कैसे कर सकते हैं

देश में हर कोई इस भारतीय डिजिटल भुगतान समाधान e-Rupi का उपयोग अन्य डिजिटल भुगतान ऐप्लिकेशन की तरह आसानी से कर सकता है क्योंकि हम सभी जानते हैं कि e-Rupi को कैशलेस और संपर्क रहित भुगतान सिस्टम के रूप में डिजाइन किया गया है जो इसे पहले से ही अन्य सभी से अलग बनाता है। तो अब यहाँ वह सवाल आता है जहाँ आप जानना चाहते हैं कि यह E-RUPI कैसे काम करता है। जैसा कि हम सभी जानते हैं, E-RUPI किसी विशेष बैंकिंग या मोबाइल एप्लिकेशन से जुड़ा नहीं है, इसलिए हर कोई स्वतंत्र रूप से E-RUPI का उपयोग कर सकता है। E-RUPI का उपयोगकर्ता सेवा प्रदाता पर E-RUPI कूपन के रूप में उपयोग किया जा सकता है।

e-Rupi का उपयोग कैसे करना है इसको एक उदाहरण के माध्यम से आसानी से समझने की कोशिश करते हैं। मान लीजिए आपने एक उत्पाद खरीदा और खरीदारी पर वाउचर प्राप्त किया। अब इस वाउचर को आप अपने पास physical form में रख सकते हैं लेकिन e-Rupi के साथ ऐसा नही है।

e-Rupi में आपको वाउचर को भौतिक रूप में ले जाने की आवश्यकता नही होती। इसे आपके मोबाइल फोन पर क्यूआर-कोड के रूप में या एसएमएस के रूप में भेजा जा सकता है।

यह डिजिटल लेनदेन सुरक्षित है क्योंकि यह लेनदेन पूरा होने के बाद ही भुगतान सुनिश्चित करता है। pre-paid होने के कारण, यह आश्वासन देता है कि विक्रेताओं को बिना किसी मध्यस्थ की भागीदारी के समय पर भुगतान किया जाएगा। इस ई-वाउचर को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना और उर्वरक सब्सिडी आदि के लिए भी लाभकारी बनाया जा सकता है। चूंकि लाभ वाउचर के रूप में स्थानांतरित किए जाएंगे, इसलिए इनका उपयोग केवल इच्छित उद्देश्य के लिए किया जा सकता है।

क्या e-Rupi क्रिप्टो करेंसी का रूप है

नहीं, e-Rupi न तो क्रिप्टो करेंसी का हिस्सा है और न ही क्रिप्टो करेंसी का रूप है। क्रिप्टो करेंसी ब्लॉकचेन तकनीक का उपयोग करती हैं जबकि e-Rupi इसका उपयोग नहीं करता। यह पूरी तरह से केंद्रीकृत होगा यानी भारत सरकार और RBI के कंट्रोल में। e-Rupi लॉन्च होने के बाद भारत में कोई भी इसे भुगतान के तरीके के रूप में अस्वीकार नहीं कर सकता है।

e-Rupi कौन जारी करता है

e-Rupi एक कैशलेस भुगतान माध्यम है जिसे भारत सरकार द्वारा जारी किया जाएगा। आप इस ई-रुपी डिजिटल पेमेंट के जरिए देश में कहीं भी पेमेंट कर सकते हैं।

e-Rupi के लाभ

ई-रुपी डिजिटल पेमेंट सिस्टम के लाभ नीचे दिए गए हैं :-

  • ई-रुपी का उपयोग करने से कोई भौतिक हस्तक्षेप नहीं होगा क्योंकि यह सीधे सेवा प्रदाता और लाभार्थी को जोड़ देगा, सीधे भौतिक हस्तक्षेप को समाप्त कर देगा।
  • चूंकि वाउचर प्रीपेड रूप में होंगे, उपयोगकर्ताओं को टैप करके भुगतान करना होगा और कार्ड, नेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग आदि की कोई भागीदारी नहीं होगी।
  • इससे सबसे अच्छा लाभ यह हो सकता है कि भुगतान सफल होने के बाद ही सेवा प्रदाता को उसी समय पैसा मिल जाएगा।
  • यह विभिन्न कल्याणकारी सेवाओं की लीक-प्रूफ डिलीवरी भी सुनिश्चित करता है।
  • वाउचर का उपयोग निजी क्षेत्र द्वारा विभिन्न कर्मचारी कल्याण योजनाओं और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी कार्यक्रमों के तहत किया जा सकता है।
  • इसका उपयोग उन योजनाओं के तहत भी किया जा सकता है जो दवा और पोषण संबंधी सहायता प्रदान करती हैं जैसे कि मातृ एवं शिशु कल्याण योजना, दवा और डायग्नोस्टिक योजना के तहत ABPMJAY, उर्वरक सब्सिडी आदि।

ई-रुपी को अपनाने वाले बैंक

e-Rupi डिजिटल पेमेंट सिस्टम योजना को लॉंच करते समय आधिकारिक रूप से 11 बैंकों को सूचीबद्ध किया गया है जो निम्न हैं। हालाँकि इसकी पॉप्युलैरिटी बढ़ने के बाद और बैंकों के द्वारा इसको स्वीकार करना शुरू किया जा सकता है।

  • भारतीय स्टेट बैंक
  • पंजाब नेशनल बैंक
  • बैंक ऑफ बड़ौदा
  • कोटक बैंक
  • आईसीआईसीआई बैंक
  • इंडियन बैंक
  • ऐक्सिस बैंक
  • केनरा बैंक
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया
  • एचडीएफसी बैंक
  • इंडसइंड बैंक

यह राष्ट्र के विकास और देश के लोगों को लाभ प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उठाया गया एक और उत्कृष्ट कदम है, चाहे वे स्मार्टफोन उपयोगकर्ता हों या नहीं, चाहे वे सरकारी क्षेत्र या निजी क्षेत्र के लिए काम कर रहे हों।

निष्कर्ष

इस पोस्ट में हमने आपको बताया की e-Rupi Kya Hai और कैसे काम करता है? आशा करते हैं कि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आएगी। इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया जैसे फ़ेसबुक, WhatsApp और WhatsApp Group, Telegram, Koo App इत्यादि में ज़रूर शेयर करें।